Quick Link
Muthoot Blog Banner
BLOG

Stay

Updated at

All Times

सोने के सिक्के की शुद्धता की जांच कैसे करें? - मुथूट फाइनेंस

गोल्ड स्टेट्स, पावर और संपत्ति का प्रतीक है। भारत के साथ-साथ दुनियाभर में लोग सोने के सिक्के एवं बार खरीदते हैं और निवेश करते हैं क्योंकि इसे सबसे सेफ इंवेस्टमेंट विकल्प माना जाता है, जो बढ़िया रिटर्न प्रदान करता है।

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे कोई भी सोने के सिक्के खरीदने का विकल्प चुन सकता है। कुछ पास की ज्वैलरी स्टोर में जाना पसंद करते हैं जबकि अन्य बैंकों में जाते हैं। NBFC (नॉन बैंकिंग फाइनेंशल कंपनी) हैं जो लोगों को ऑनलाइन सोने के सिक्के खरीदने की अनुमति देती हैं। इतने सारे विकल्प उपलब्ध होने के कारण, सभी को इस बात का पता लगाने की आवश्यकता है कि उन्होंने जिस गोल्ड में इन्वेस्ट किया है, वह शुद्ध है।

यह लेख के जरिए सोने के सिक्के के आकार-प्रकार को प्रभावित किए बिना आप जान पाएंगे कि उक्त सोने के सिक्के शुद्ध है या नकली।

  • स्टाम्प टेस्ट

    चाहे आप ऑनलाइन सोने के सिक्के खरीदें या फिर ऑफलाइन, उस पर हमेशा BIS हॉलमार्क स्टैम्प देखें। स्टैम्प आपको कैरेट या सुंदरता के संदर्भ में सोने के सिक्के की शुद्धता बताता है। उदाहरण के लिए, 24KT 999 शुद्धता वाले 1 ग्राम सोने के सिक्के पर BIS हॉलमार्क का मतलब है कि यह बिना किसी धातु के 100% शुद्ध है। एक हॉलमार्क में आम तौर पर शामिल होता है,

    1. कैरेट में मान्य शुद्धता - 8KT, 9KT, 10KT, 14KT, 18KT, 21KT, 22KT और 24KT.

    2. शुद्धता में मान्य शुद्धता - 333, 375, 417, 583, 585, 625, 570, 833, 875, 916,958 और 999.

    सोने के सिक्के पर हॉलमार्क की जांच करके, आप न केवल इसकी प्रामाणिकता और वेल्यू को जान पाएंगे, बल्कि भविष्य में अधिकतम रिटर्न भी प्राप्त कर सकेंगे।

  • लेटर मार्किंग

    सोने के सिक्के की शुद्धता को मापने का एक और तरीका यह है कि उस पर निम्नलिखित अक्षरों की तलाश की जाए, जिनमें से प्रत्येक का अपना अर्थ होता है:

    GP - गोल्ड प्लेटिंग

    GF - गोल्ड फिल्ड

    GE - गोल्ड इलेक्ट्रोप्लेटेड

    HGP - हाई गोल्ड प्लेटिंग

    HEG - हैवी गोल्ड इलेक्ट्रोप्लेटेड

    इन सभी लेटर मार्किंग का मतलब ये है कि गोल्ड का नहीं बल्कि किसी अन्य धातु से बने कॉइन पर प्लेटिंग के लिए थोड़े से गोल्ड का इस्तेमाल किया गया है।

  • स्किन टेस्ट

    सोने के सिक्के शुद्ध है या नकली, पता करने का ये सबसे आसान और सरल तरीका है।

    इसके लिए सोने के सिक्के को कुछ मिनटों के लिए अपनी स्किन पर रगड़ें। यदि कॉइन गोल्ड का बना है तो स्किन पर कोई इफेक्ट नहीं होगा लेकिन अगर ये किसी अन्य धातु का बना है तो स्किन पर दाग छोड़ेगा। यदि आप गौल्ड कॉइन ऑनलाइन खरीदते हैं तो यह टेस्ट आसानी से घर पर किया जा सकता है। यदि स्टोर से खरीदते हैं तो खरीदने से पहले इस टेस्ट को किया जा सकता है।

  • आकार और वजन

    गोल्ड अधिकांश धातुओं की तुलना में ठोस होता है और इसलिए खासकर सोने के सिक्के और बार के मामले में यह टेस्ट अच्छा काम करता है।

    इस प्रक्रिया में आप असली सोने के सिक्के से खरीदें गए कॉइन की तुलना कर सकते हैं, बशर्ते तुलना किए जाने वाले कॉइन की शु​द्धता से आप भली भांति परिचित हों। इसके अलावा, आप साइज़ की जांच करने के लिए कैलिपर्स के एक सेट और एक जौहरी के पैमाने का उपयोग कर सकते हैं। अगर कॉइन वास्तविक सोने के सिक्के से अलग दिखता है तो इसका मतलब है कि यह एक नकली सोने के सिक्के है।

  • फ्लोट टेस्ट

    19.32 g/ml थिकनेस की वजह से गोल्ड अन्य धातुओं की तुलना में भारी होता है। यदि आप सोने के सिक्के की शुद्धता की जांच करना चाहते हैं, तो बस इसे पानी में डाल दें। अगर सिक्का शुद्ध सोने का है तो ये पानी के तल तक ढूब जाएगा जबकि मिलावटी है तो पानी पर तैरता रहेगा।

    हालांकि सोने के सिक्के की शुद्धता की जांच करने का ये एक आसान तरीका है, लेकिन फ्लोट टेस्ट शुद्धता की जांच करने के लिए एकमात्र मानदंड नहीं होना चाहिए क्योंकि गोल्ड के मुकाबले अन्य धातु भी भारी हो सकती है।

  • मेग्नेट टेस्ट

    सोने के सिक्के की शुद्धता की जांच करने के लिए मेग्नेट टेस्ट एक सही और सुविधाजनक तरीका है क्योंकि आप इसे अपने साथ भी ले जा सकते हैं। इस टेस्ट में कॉइन को चुंबक से आकर्षित करना होगा। शुद्ध सोने के मामले में कॉइन चुंबक से नहीं चिपकेगा लेकिन अन्य धातुओं के मामले में सिक्का मेग्नेट से चिपक जाएगा।

    यह टेस्ट सोने की शुद्धता की तुरंत पहचान करने में मदद करता है, हालांकि, अंतिम निर्णय लेने का ये एकमात्र मानदंड नहीं होना चाहिए। शुद्धता सुनिश्चित करने के लिए अन्य टेस्टिंग मेथर्ड के साथ जांच करें कि जो सोने के सिक्के आप खरीद रहे हैं, वह शुद्ध है या नहीं।

  • सिरेमिक टेस्ट

    सोने के सिक्के शुद्ध है या नहीं, इसकी तुरंत जांच करने का एक और तरीका यह है कि इसे बिना कांच की सिरेमिक प्लेट या चीनी मिट्टी के बर्तन या टाइल पर रगड़ा जाए। यदि दोनों उपलब्ध नहीं हैं, तो आप एक ब्लैक ज्वैलरी स्टोन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस पर रगड़ खाने के बाद अगर कॉइन गोल्ड का निशान छोड़ता है तो वह शुद्ध है और किसी अन्य रंग छोड़ने का मतलब नकली है।

    यह टेस्ट करते हुए सावधान रहें क्योंकि ज्यादा रगड़ से कॉइन को नुकसान हो सकता है, जिससे इसकी मार्केट वैल्यू कम हो सकती है।

  • वॉटर टेस्ट

    जैसा कि पहले भी बताया जा चुका है, 24kt गोल्ड का मानक घनत्व 19.32 g/ml होता है और अधिकांश अन्य धातुएं घनत्व के मामले में इस संख्या के करीब भी नहीं हैं। इस वजह से सोने की शुद्धता की जांच के लिए वॉटर टेस्ट एक विश्वसनीय तरीका है। इस टेस्ट के लिए नीचे बताई गई कुछ गणनाएं शामिल हैं:

    सोने के सिक्के का वजन लेकर उसे एक कटोरी पानी में डाल दें। सिक्का डालने से पहले और बाद में जल स्तर को मापना याद रखें। अब, पहले माप और बाद के माप को घटाकर गणना करें। फिर अंतिम परिणाम प्राप्त करने के लिए परिणाम को सिक्के के वजन से घटाएं, जो कि घनत्व है। यदि प्राप्त रिजल्ट सोने के सिक्के के मानक घनत्व से मेल खाता है तो यह शुद्ध है, अन्यथा नहीं।

  • एसिड टेस्ट

    इस प्रक्रिया में सिरका या नाइट्रिक एसिड जैसे एसिड के साथ सोने के सिक्के की जांच करना शामिल है। इसके लिए बस आपको सोने के सिक्के पर बताए गए एसिड में से किसी एक की कुछ बूंदें डालने और उसके परिणाम की जरुरत है। एसिड से सोने के सिक्के में कोई अंतर नहीं आएगा लेकिन अन्य धातुओं के मामले में सिक्का नीला, हरा या काला हो जाएगा।

    एक अन्य टेस्टिंग के लिए, आप कॉइन को ब्लैक ज्वैलरी स्टोन पर रगड़कर, फिर निशान पर नाइट्रिक एसिड लगा सकते हैं। एसिड किसी भी अन्य धातु का कलर बदल देता है और गोल्ड का कलर वैसा का वैसा बना रहता है। यह छोटा सा टेस्ट आपको बताएगा कि सोने के सिक्के प्योर है या नकली।

  • मैग्निफाइंग ग्लास टेस्ट

    मैग्निफाइंग ग्लास टेस्ट या फेल-सेफ टेस्ट 999 शुद्धता वाले सोने के सिक्के की वैल्यु जानने वालों सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। इस टेस्ट को करने के लिए आपको सिक्के को एक मैग्निफाइंग ग्लास के नीचे रखना होगा और किसी भी तरह के रंग या अजीब चमक के लक्षण देखने होंगे।

    चूंकि पर्यावरणीय गुण गोल्ड के गुणों को प्रभावित नहीं करते हैं, इसलिए इस बात की संभावना काफी कम है कि इस चमक में कोई फर्क आएगा। गोल्ड की चमक आकर्षक लाइट यलो कलर की होती है जो ज्यादा चमकदार नहीं होती है। इसके अतिरिक्त कोई रिजल्ट मिलते हैं तो इसका मतलब है कि वो सोने के सिक्के नकली है।

अधिकतम परिणाम सुनिश्चित करने के लिए खरीदने से पहले सोने की शुद्धता की जांच करना महत्वपूर्ण है, खासकर जब इसे इंवेस्टमेंट के तौर पर खरीदा जा रहा हो। इसके अलावा, सबसे सुरक्षित विकल्प विश्वसनीय बैंकों और मुथूट फाइनेंस जैसी अन्य फाइनेंशियल एजेंसी को चुनना है, जो आपके लिए बिना किसी परेशानी के शुद्ध और वैद्य सोने के सिक्के को ऑनलाइन खरीदना आसान बनाते हैं।

Subscribe to our newsletter

Close Icon

help us serve you better